Followers

Thursday, October 29, 2015

मन की बात


कान तरसते रह गये, बादरवा का शोर 
ना बरखा ना बीजुरी, कैसे नाचे मोर ! 

शीतल जल के परस बिन, मुरझाए सब फूल 
कोयल बैठी अनमनी, गयी कुहुकना भूल ! 

बेटा बेटी में फरक, जाहिल की पहचान 
मन की आँखें खोलिये, बेटी गुण का खान ! 
 
पढ़ी लिखी लड़की बने,  पीहर का अभिमान
उसके संयम से बढ़े, दोनों कुल का मान ! 
 
जितना साधें टूटते, रिश्ते बड़े अजीब 
बिन कोशिश बँध जाँय ये, जिनके बड़े नसीब ! 

जिसने जीवन भर किया, रिश्तों का सम्मान
पूँजी पाई प्यार की, बना वही धनवान ! 

ब्लॉग सभी सूने पड़े, कविगण हुए हताश
जकड़ रहा हर एक को, 'फेस भूख' का पाश ! 

दीपक ले कवि हैं खड़े, स्वागत को तैयार 
शायद कोई ब्लॉग पर, आ जाये इस बार ! 


साधना वैद